Friday, May 26, 2017

हाशिये पर खुशी है हाशिए पर हम

हाशिये पर खुशी है हाशिए पर हम

हाशिया ही ख्‍वाब है, वही लेगा दम

उससे नाराज हैं अभी ज्‍यादा कभी कम

आंखों का क्‍या कभी सूखी अभी नम

हाशिये पर खुशी है हाशिए पर हम-3

No comments:

पढ़ें एक बच्चे और बुज़ुर्ग की जिंदादिल ज़िंदगी का कड़वा सच

यह कहानी है एक बच्चे और बुजुर्ग की। दोनों की ज़िंदगी अलग है। दोनों एक-दूजे से अंजान हैं। हालांकि, दोनों हंसमुख हैं। मैंने उन्हें कभी उदास...