Friday, May 26, 2017

हाशिये पर खुशी है हाशिए पर हम

हाशिये पर खुशी है हाशिए पर हम

हाशिया ही ख्‍वाब है, वही लेगा दम

उससे नाराज हैं अभी ज्‍यादा कभी कम

आंखों का क्‍या कभी सूखी अभी नम

हाशिये पर खुशी है हाशिए पर हम-3

No comments:

एक गुमनाम ईमानदार...

कुछ खास होकर भी वो आम रहा ईमानदारी की जिद में बदनाम रहा। उसे गैरों से कभी उम्‍मीद ही न की  वो तो अपनों में भी सिर्फ नाम रहा। ...