Friday, May 26, 2017

मेरा सफर शुरू हो गया


मैं अब नही थकुंगा
गलतियों को, नही भुलूँगा
कर्मपथ पे चला करूँगा
मेरा सफर शुरू हो गया
किस्मत मेरे पास है
मन में हर्षोल्लास है
अब हर पल बडा ही खास है
मेरा सफर शुरू हो गया
मन मेरा शांत है
चारों ओर एकांत है
संग मेरे कान्त है
मेरा सफर शुरू हो गया
खुशियों को खींच लाता हूँ
ख़ुशी बाँट ख़ुशी पाता हूँ
अब चैन से सो पाता हूँ
मेरा सफर शुरू हो गया
आलस बिल्कुल बेकल है
आज ही आज नही कल है
क़दमों में, नभ - जल -थल है
मेरा सफर शुरू हो गया
चलता ही मैं जाऊंगा
जो चाहूँ वो पाऊंगा
तभी स्वर्ग मैं पाऊंगा
मेरा सफर शुरू हो गया

No comments:

पढ़ें एक बच्चे और बुज़ुर्ग की जिंदादिल ज़िंदगी का कड़वा सच

यह कहानी है एक बच्चे और बुजुर्ग की। दोनों की ज़िंदगी अलग है। दोनों एक-दूजे से अंजान हैं। हालांकि, दोनों हंसमुख हैं। मैंने उन्हें कभी उदास...