Thursday, May 25, 2017

आओ चलें...

तितली बनकर आओ हर सीमा पार करें
भूल हर दीवार-ओ-गम गुलिस्‍तां पार करें
उस देश की धरती जहां सभी खुशहाल रहें
आओ हम उस ग्रह पर नाम गुलजार करें
बाग बहार सब कितने भूल रहे हम सब
आओ दोस्‍त हम-तुम हर पल गुलजार करें
बिना शिकायत जो सम्‍बंधों को जी जाये
उस दुनिया की ओर चलो रफ्तार करें

No comments:

पढ़ें एक बच्चे और बुज़ुर्ग की जिंदादिल ज़िंदगी का कड़वा सच

यह कहानी है एक बच्चे और बुजुर्ग की। दोनों की ज़िंदगी अलग है। दोनों एक-दूजे से अंजान हैं। हालांकि, दोनों हंसमुख हैं। मैंने उन्हें कभी उदास...