Wednesday, September 10, 2014

ऐसी मुझको मदिरा दो

ऐसी मुझको मदिरा दो

न हो मुझको कोई रोष
न दे मुझको कोई दोष
बढ़ा किये जा मेरा कोष
                              ऐसी मुझको मदिरा दो। 
न कभी मैं लडख़ड़ाऊं
सीधी राह चला जाऊं
सदा सम्मान मैं पाऊं
                              ऐसी मुझको मदिरा दो। 

न हो जाति का कोई मान
दुर्बल को दिया दूं दान
 बना रहे आंगन का मान
                                ऐसी मुझको मदिरा दो। 
आंखें रहीं चढ़ी सदा
कभी न हो कम-ज्यादा
कभी घटे न मर्यादा
                          ऐसी मुझको मदिरा दो। 
वाणी में रहे महक-महक
पिया करूं मैं चहक-चहक
गर्मी जिसमें दहक-दहक
                             ऐसी मुझको मदिरा दो। 
फूल के रंग से रंगा हुआ
कामाग्नि में पका हुआ
तेरी पलकों से छना हुआ
                            ऐसी मुझको मदिरा दो। 

(19/04/2006 को मैंने लिखी थी यह कविता)

No comments:

हिचकारा : लखनऊ का अश्‍लील और गौरवपूर्ण काव्‍य प्रेम

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।                                                          साभार: गूगल इमेज।     आइए जानें लखनऊ का विशाल इतिहास। ह...