Friday, December 24, 2010

सहर

ख्‍वाबों में तुम, लबों पर रूबाई है

हर नज्‍म लिखने से पहले तुम्‍हें सुनाई है

वक्‍त की मजार पर पूछ रहा हूं खुद से

ऐ खुदा तुझे मुझसे क्‍या रूसवाई है

चलो फिर आम की बागों में गुम हो जाएं

सडकों पर तो लूट और जगहंसाई है

उसने प्‍यार-मोहब्‍बत सब दिया टुकडों में

मैं खुद में शहर हूं, फिर भी तन्‍हाई है।

__________________________

-------------------------------------

4 comments:

nilesh mathur said...

कमाल की अभिव्यक्ति है, बेहतरीन!

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
एक आत्‍मचेतना कलाकार

खबरों की दुनियाँ said...

अच्छी पोस्ट , शुभकामनाएं । पढ़िए "खबरों की दुनियाँ"

Kailash C Sharma said...
This comment has been removed by a blog administrator.

प्रकृति और 'हम'

सुनो, प्रकृति की बांसुरी की धुन को जो हाड़ कंपा रही है मन को डरा रही है हर बूंद की कीमत प्‍यास बढ़ाकर दर्शा रही है देखो, महान आकाश क...