Friday, December 24, 2010

सहर

ख्‍वाबों में तुम, लबों पर रूबाई है

हर नज्‍म लिखने से पहले तुम्‍हें सुनाई है

वक्‍त की मजार पर पूछ रहा हूं खुद से

ऐ खुदा तुझे मुझसे क्‍या रूसवाई है

चलो फिर आम की बागों में गुम हो जाएं

सडकों पर तो लूट और जगहंसाई है

उसने प्‍यार-मोहब्‍बत सब दिया टुकडों में

मैं खुद में शहर हूं, फिर भी तन्‍हाई है।

__________________________

-------------------------------------

4 comments:

nilesh mathur said...

कमाल की अभिव्यक्ति है, बेहतरीन!

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
एक आत्‍मचेतना कलाकार

खबरों की दुनियाँ said...

अच्छी पोस्ट , शुभकामनाएं । पढ़िए "खबरों की दुनियाँ"

Kailash C Sharma said...
This comment has been removed by a blog administrator.

हिचकारा : लखनऊ का अश्‍लील और गौरवपूर्ण काव्‍य प्रेम

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।                                                          साभार: गूगल इमेज।     आइए जानें लखनऊ का विशाल इतिहास। ह...