Sunday, June 6, 2010

मैं अजनबी हूं

प्‍यार के दिल में मैं अजनबी हूं
पहचानो मुझे इश्‍क मैं वही हूं
तेरी हर खुशी का ख्‍याल है मुझे
पर तेरे लिए ही मैं कुछ नहीं हूं
यादों में अपनी ताक-झांककर
मैं वहीं हूं और कहीं नहीं हूं
जोर न दो जज्‍बात-ए-दिल पर
कभी तो तुम कहोगे, मैं सही हूं
बदलेंगे हालात मुझे यकीन है
कभी तो तुम कहोगे कि मैं वही हूं।

---------------------------------------
---------------------------------------
ब्‍लॉगर साथियों मुझे दिल्‍ली में अपनी गजलों की किताब छपवानी है। मगर इस बारे में मुझे ज्‍यादा जानकारी नहीं है। हो सके तो इस बारे में मुझे सलाह दें। मैं आपका आभारी रहूंगा।

Saturday, June 5, 2010

खुशी वो मुझे बेदाम दे गया

खामोश अदाओं से कोई साज दे गया
मैं निराश था वो मुझे आस दे गया
बौर देख ज्‍यों चिडिया चहक जाती है
ऐसी ही खुशी वो मुझे बेदाम दे गया
अब हमेशा होठों पर मेरी मुस्‍कान रहेगी
मुझ नासमझ को वो यही काम दे गया
जाना की रोशनी का अपना ही मजा है
मुझ बेनाम को वो 'नीरज' नाम दे गया
ऐसा नहीं कि मुझे हंसना नहीं आता
जिसे अपना कहा वही मुस्‍कान ले गया
पर अब भी उस हंसी पर हक मेरा है
आपसे जो मिला तो इमाम मिल गया

खामोश अदाओं से कोई साज दे गया
मैं निराश था वो मुझे आस दे गया
बौर देख ज्‍यों चिडिया चहक जाती है
ऐसी ही खुशी वो मुझे बेदाम दे गया
-----------------------------------
-----------------------------------
इमाम के नाम समर्पित।
-------------------------------------
ब्‍लॉगर साथियों मुझे दिल्‍ली में अपनी गजलों की किताब छपवानी है। मगर इस बारे में मुझे ज्‍यादा जानकारी नहीं है। हो सके तो इस बारे में मुझे सलाह दें। मैं आपका आभारी रहूंगा।

Tuesday, June 1, 2010

दोस्‍त कफन सजाये बैठे हैं

दर्द जमाने का सीने में दबाये बैठे हैं
नीरज रोशनी से हाथ जलाये बैठे हैं
अबकि बरसात में जी भरकर रोउंगा
कितने ही पन्‍नों को दर्द सुनाये बैठे हैं
दर्द यह नहीं कि मिला दर्द ज्‍यादा है
कई अजीज दोस्‍त कफन सजाये बैठे हैं
हर पल तकदीर को हार ही मिली है
फिर भी मंजिल की आस लगाये बैठे हैं
जिनके आंखों का कभी तारा होते थे हम
वही हमें आज जनमों से भुलाये बैठे हैं

---------------------
---------------------
कभी-कभी मन भर सा जाता है।

एक गुमनाम ईमानदार...

कुछ खास होकर भी वो आम रहा ईमानदारी की जिद में बदनाम रहा। उसे गैरों से कभी उम्‍मीद ही न की  वो तो अपनों में भी सिर्फ नाम रहा। ...